मंगलवार, 28 अक्तूबर 2008

दिवाली

आज दिवाली का दिन है. हिंदू दर्म में, इस दिन सबसे पवित्र है. हर साल इस दिन हिंदू दर्म के लिए एक नया साल शुरू होती है. बहुत साल पहले राम, सीता, और लक्ष्मण अयोध्या से वापस आए. और आज, हम इस कुशी मानाने के लिए दिवाली मनाते हैं. मेरी परिवार बहुत परंपरा है दिवाली के लिए. हर साल हम सब एक सात लक्ष्मी पूजा करते है. हम इमान भी देते है और पटाखे भी जिलाते है. हम मिटा भी बदलते हैं. जब हम छोटे थे, पूजा के बाद हम बच्चे ने दस कमैनादमंट्स ने पदे. हम बच्चे ने बोले की हम दिवाली क्यों मानते है. हम घर भी साफ़ करते और नया कपड़े पहनते है. हम दिया भी जिलाते है. दिवाली पेसे का दिन भी होती है और हम लोटरी में पेसे डालते है. दिवाली मेरी सबसे पसंदीदा दिन है.

1 टिप्पणी:

नारदमुनि ने कहा…

apki pasand ka din har pal aapke paas rahe.narayan narayan